Live Surya Grahan 2018 Date and Time Live Update, Solar Eclipse 2018 India news Live

Published on Jul 12, 2018
27425 views
My Smart Guide

Live Surya Grahan 2018 Date and Time Live Update, Solar Eclipse 2018 India news Live

Live - Surya Grahan 2018 Date and Time Live Update, Solar Eclipse 2018 India news Live

Surya Grahan 2018 Dates and Time in India LIVE, Solar Eclipse 2018 India Date and Time: सूर्य ग्रहण 2018, 13 जुलाई मतलब कल है। सूर्य ग्रहण 2018 से पहले और ग्रहण के दौरान कुछ बातों का विशेष ख्याल रखना होता है। कल साल का दूसरा सूर्य ग्रहण है। भारतीय समयानुसार ग्रहण सुबह 7 बजकर 18 मिनट 23 सेकेंड से शुरू होगा। ग्रहण का माध्यम काल 8 बजकर 13 मिनट 05 सेकेंड पर होगा और मोक्ष 9 बजकर 43 मिनट 44 सेकेंड पर होगा। सूर्य ग्रहण लगने से पहले दूध-दही जैसी चीजों में तुलसी के पत्ते डालकर रखने चाहिए।जिस वक्‍त सूर्य ग्रहण लगा होता है उस अवधि को सूतक काल कहते हैं, ज्योतिषियों के अनुसार सूतक का प्रभाव नहीं पड़ेगा। ऐसा भी कहा जाता है कि सूर्य ग्रहण के समय सोना और खाना नहीं चाहिए। ग्रहण के दौरान मूर्ति पूजा नहीं करनी चाहिए। आपको बता दें कि ग्रहण खत्म होने के बाद सबसे पहले नहाना चाहिए और फिर गरीबों और जरूरतमंदो को दान दक्षिणा देनी चाहिए। ग्रहण का असर राशियों पर भी पड़ता है।

13 जुलाई 2018 आषाढ़ अमावस्या के दिन पड़ रहा है सूर्य ग्रहण। यह सूर्य ग्रहण भारत में दिखा नहीं देगा। इंग्लैंड के ग्रीनविच शहर में यह दोपहर 1:30 बजे नजर आएगा और अमेरिका के पूर्वी तट पर सुबह 9:30 बजे दिखेगा। नासा की मानें तो आंशिक सूर्य ग्रहण अब शुक्रवार को 2080 में होगा।ज्योतिषियों के अनुसार ग्रहण से जुड़े कुछ नियम मानना बहुत जरूरी है।

यहां पढ़ें सूर्य ग्रहण का समय
13 जुलाई को आषाढ़ कृष्ण पक्ष अमावस्या
प्रात: 7 बजकर 18 मिनट और 23 सेकंड से शुरू और मोक्ष 9 बजकर 43 मिनट 44 सेकंड बजे होगा।

ज्योतिषियों के अनुसार सूर्य ग्रहण लगने से पहले दूध-दही जैसी चीजों में तुलसी के पत्ते डालकर रखने चाहिए।
जिस वक्‍त सूर्य ग्रहण लगा होता है उस अवधि को सूतक काल कहते हैं, ज्योतिषियों के अनुसार सूतक का प्रभाव नहीं पड़ेगा। लेकिन इस अवधि में पूजा-पाठ और मूर्ति पूजा नहीं की जाती है। ऐसा भी कहा जाता है कि सूर्य ग्रहण के समय सोना और खाना नहीं चाहिए।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।


Loading...


Loading...